amazon banner

Monday, September 20, 2021

मैं से मैं तक का सफर-a spiritual journey

इस संसार में मैं का बहुत महत्व है। इस मैं को अहंकार माना जाता है। इसी कारण हर इंसान अहंकार से बचने का प्रयास करता है। इसी कारण मैं शब्द  कम ही इस्तेमाल किया जाता है या बहुत ही कोमलता से इस्तेमाल किया जाता है। जिससे किसी को ये ना लगे की मुझमें अहंकार है। लेकिन मैं कहना सच में

सुख दुख इंसान का चुनाव।

 इंसान अपने जीवन को खुद की सोच और व्यवहार से स्वर्ग और नर्क बनाता है। जब इंसान को सुख का मार्ग दिखाया जाता है, तब वह अपने अज्ञान और अहंकार क...